गजापुरा विवाद में एक बार फिर दोनों तरफ से क्रॉस मामले दर्ज, 4 साल से चल रहा है कलह

राजस्थान भारती. जसवंतपुरा

जसवंतपुरा के समीप गजापुरा में चार साल पुरानी रंजिश एक बार फिर चुनाव के ठीक दो दिन बाद 1 मई को गांव में तनाव का कारण बन गई और दो पक्षों के बीच झगड़ा हो गया। मामले को बिगड़ता देख पुलिस की ओर से सतर्कता देखाते हुए मामले को शांत करवाने के लिए पुरे गांव में धारा 144 लगाकर मामले को शांत किया। जानकारी अनुसार दो पक्षों के बीच जबरदस्त झड़प हुई थी। जिससे दर्जन भर लोग भी घायल हुए।

शांतिभग में किए थे 70 लोगों को गिरफ्तार :

मामला बिगढ़ता देख पुलिस की ओर से हालात काबू करने के लिए बुधवार को 70 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। उन्हें भी जमानत पर छोड़ दिया गया है। गांव में अब हालात सामान्य है। प्रशासन की ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम है।

चुनाव के दौरान हुआ कलह बना विवाद का कारण :

गजापुरा में चुनाव के दिन युवकों के बीच आपस में बहस हो गई थी। जिसके चलते चुनाव के दो दिन बाद वह विवाद बढ़ गया और एक दूसरे को मारने पर उतारु हो गए और दो पक्षों के बीच झड़प हो गई।

चार साल से है दो पक्षो के बीच जमीन विवाद :

जानकारी अनुसार गांव में दो पक्षों की ओर से चार साल से जमीनी विवाद चला आ रहा है। जिसके बाद कई बार गांव में कलह की स्थिती भी हुई और विवाद पैदा हो जाते है।

गजापुरा विवाद को लेकर क्रॉस में मामले दर्ज :

पुलिस अनुसार 1 मई को हुए गजापुरा गांव में विवाद को लेकर क्रॉस मामले दर्ज हुए है। रिर्पोटकत्र्ता गजापुरा निवासी खेताराम पुत्र भकाराम मेघवाल ने रिपोर्ट पेश कर बताया कि भैराराम, पोमाराम, सवाराम, लादाराम, वैलाराम, डूगराराम, उतमसिंह, महेंद्रसिंह की ओर से मुझे रास्ते में जातिगत शब्दों से अपमानीत कर जाने से मरने की धमकी दी और मेेरे से बुरा व्यवहार किया।

रिर्पोट में बताया कि चुनाव में साथ नहीं देने को लेकर इस तरह का व्यवहार किया। वहीं दूसरी तरफ जुजार सिंह पुत्र रावत सिंह ने रिर्पोट पेश कर बताया कि देवाराम पुत्र सवाराम चौधरी की ओर से मोटरसाईकिल से टक्कर मार कर मुझे गिरा दिया और चुनावों को लेकर वाद विवाद करने लगे।

बता दे कि मुलत: दो पक्षों के बीच पहले से कलह है इसके चलते चुनाव के दौरान विवाद बढ़ा और 1 मई को झड़प हो गई।