क्लिप बनाकर ब्लैकमेल का मामला : आहोर विधायक राजपुरोहित ने की एसओजी से जांच की तैयारी

राजस्थान भारती. जालोर

शहर में इन दिनों लड़की के जरिए युवाओं को फंसाकर अश्लील क्लिप बनाकर ब्लैकमेल करने के बाद उन युवाओं से पैसें ऐंठने के मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। पुलिस छानबीन में यह बता चला है कि इस खेल के पीछे बड़ा मास्टर माइंड आहोर का निवासी ललित सुथार है। ​ललित सुथार ही नीरेंद्र दुबे को जालोर लेकर आया था। इस मामले में आहोर विधायक शंकरसिंह राजपुरोहित एसओजी से जांच करवाने की तैयारी कर रहे है। जानकारी के अनुसार ललित सुथार पिछले कुछ समय से गुजरात में रहता है।

जब एक पीड़ित द्वारा पुलिस में इस मामले की शिकायत करने पर मामले का खुलासा तो हुआ, लेकिन पुलिस तो इस मामले को दबाने में लगी हुई है। हालांकि पुलिस ने नीरेंद्र दुबे को तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन लड़कों को फंसाकर उनके अश्लील क्लिप बनाने वाली लड़की और ललित सुथार के अलावा इस गिरोह में शामिल कई अन्य लोगों को पुलिस द्वारा अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। इधर, पुलिस ने कहा है कि इस मामले की साइबर तकनीक से जांच कर कड़ी से कड़ी जोड़ी जाएगी।

पहले चलाया डीजे और बाद में शुरू किया ब्लैकमेलिंग का गौरख धंधा

पुलिस छानबीन में यह सामने आया है कि ललित सुथार और नीरेंद्र दुबे के बीच इन दो महीनों में कई बार आपस में मोबाइल पर बात की गई है। लेकिन अब मामला ज्यादा प्रकाशन में आने के बाद पुलिस इस मामले में कॉल डिटेल को ज्यादा से ज्यादा खंगालने के प्रयास में जुटी है। जानकारी में यह भी सामने आया है कि ललित कुछ महीनों पहले मुंबई गया था। वहां नीरेंद्र डीजे का काम करता था। इस दौरान ललित और नीरेंद्र की आपस में दोस्ती होने के बाद वह नीरेंद्र को आहोर लेकर आया। आहोर में कुछ समय तक तो डीजे चलाया। फिर बाद कुछ समय बाद ललित ने ही नीरेंद्र को जालोर के पॉश कॉलोनी शिवाजी नगर में दो मंजिला किराए पर दिलवाया। जहां लड़की के जरिए युवाओं को बुलाकर उनकी अश्लील क्लिपिंग बनाई।

पैसे वाले युवाओं का चयन ललित ने ही किया

दरअसल, ललित स्थानीय निवासी होने के कारण वह पूरी तरह से जानता था कि कौन युवक पैसा दे सकता है। इस कारण उसने ही अलग-अलग युवाओं को निशाने पर लेना शुरू किया। ललित के कहने पर ही संबंधित युवक को मुंबई से बुलाई गई लड़की ने नियर बाय एप, फेसबुक मैसेंजर के जरिए दोस्ती करती। जब युवक उसके झांसे में आता तो मकान पर लाकर उनकी अश्लील क्लिपिंग बना देती। इस मामले में अधिकांश आहोर के युवाओं को फंसाया गया है।

फेसबुक पर राजसी ठाठ

ये डीजे का काम करने वाले नीरेंद्र दुबे की फेसबुक प्रोफाइल है। राजसी ठाठ-बाठ दिखाकर वह युवाओं को आकर्षिक करता था। फिर लड़कियों की मार्फत उनकी क्लिपिंग बनाता और ब्लैकमेल करता।

कुछ युवा बदनामी के डर से दे चुके गिरोह के सदस्यों को रुपए

क्लिपिंग बनाने के बाद सभी मुंबई चले गए और वहां से युवाओं को ब्लैकमेल करना शुरू किया। बताया जा रहा है कि कुछ युवाओं ने बदनामी के डर से पैसे भी दे दिए। यदि आहोर का युवक पुलिस के पास नहीं पहुंचता तो युवाओं से ठगी जारी रहती। आहोर के युवक से पांच लाख मांगे गए थे। जब ज्यादा परेशान करने लगे तो वह जालोर कोतवाली पहुंच गया। उसके रिपोर्ट पर आरोपी नीरेन्द्र को तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन उसके बाद तफ्तीश ठंडे बस्ते में डाल दी।

मामला बहुत बड़ा है। यदि मामला नहीं खुलता तो शायद कई युवा बदनामी के डर से जान भी दे सकते थे। पुलिस ने यदि इस मामले में लापरवाही बरती तो इस मामले को हम एसओजी के पास लेकर जाएंगे। शंकरसिंह राजपुरोहित, विधायक आहोर