भारतमाला परियोजना में जरूरत से ज्यादा किसानों की भूमि अवाप्त नहीं होने देंगे- सांसद पटेल

राजस्थान भारती

एनएचएआई के अधिकारियों ने सांसद पटेल के साथ की बैठक

जालोर. भारतमाला परियोजना को लेकर सांसद पटेल ने गुरूवार को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों से वार्ता कर समस्याओं का सामाधान करवाने के निर्देष दिए। बैठक में सांसद पटेल ने भारतमाला परियोजना सांगरिया से सांचोर के अंतर्गत सर्किल निर्माण नही करने, किसानो की कृषि भूमि जरूरत से ज्यादा अवाप्त नहीं करने, रेस्ट ऐरिया सरकारी भूमि या ओरण भूमि में बनाने उसमें किसानो की भूमि अवाप्त नहीं करने मुआवजा किसानों की मांग के अनुरूप देने व वर्तमान डीएलसी दर की हकीकत जानने के लिए तीसरी पार्टी (थर्ड पार्टी) से सर्वे करवाकर दर निर्धारित करने एवं परियोजना के बीच में जो भी स्ट्रक्चर आते है, उनका सार्वजनिक निर्माण विभाग की बीएसआर दर से भुगतान करने तथा राजस्व मार्गो पर अण्डर ब्रिजों का निर्माण करवाने के निर्देश दिए। सांसद पटेल ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों से चर्चा करते हुए बताया कि भारतमाला परियोजना सांगरिया से सांचोर के अंतर्गत किसानो की कृषि भूमि जरूरत से ज्यादा अवाप्त नहीं की जाए। क्योंकि उक्त क्षेत्र की जमीन बहुत ही उपजाऊ है। यहां पर किसान तीनों ऋतुओं में फसलों की भरपूर पैदावार लेते हैं।
इस दौरान सांसद पटेल ने परियोजना में विभाग द्वारा अवाप्त की जा रही अतिरिक्त भूमि को निरस्त करवाने की मांग करते हुए बताया कि किसानों के उपजाऊ भूमि की डीएलसी दर बहुत कम है। जिससे किसानों को अपनी जमीन का नुकसान बाजार के मूल्य से बहुत ही ज्यादा भुगतना पड रहा हैं। इसलिए किसानों के कीमती भूमि की डीएलसी दर किसानों की मांग के अनुरूप दी जायें, ताकि दिये गये मुआवजे से किसान अन्य किसी स्थान पर जमीन की खरीद कर सकें। साथ ही भूमि की डीएलसी दर की हकीकत जानने के लिए तीसरी पार्टी से सर्वे करवाकर दर निर्धारित करवाई जायें।