भीनमाल : पहले किया प्रेम, नहीं बनी तो भाई के साथ मिल कर किया मर्डर…खाकी हुई दागदार

राजस्थान भारती. भीनमाल

करीब 20 दिन पहले भीनमाल के समीप हत्या के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। घटना 19 अप्रेल की है और आरोपियों में एक महिला कांस्टेबल शामिल है।

पुलिस ने इस मामले में 8 मई को महिला कांस्टेबल श्रवणी व हत्या में उपयोग लिए गए वाहन मालिक अशोक बिश्नोई को गिरफ्तार किया गया है। प्रारम्भिक पूछताछ में कई अहम तथ्य सामने आए है। मृतक कावाखेड़ा निवासी भजनलाल विश्नोई और महिला कांस्टेबल श्रवणी के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था।

लेकिन कुछ कारणों से दोनों के रिश्तों में कड़वाहट आ गई। इसको लेकर मृतक भजनलाल विश्नोई ने महिला कांस्टेबल के अश्लील फोटो और वीडियो वायरल कर दिए।  इसको लेकर महिला कांस्टेबल व उसके भाई ने भजनलाल की हत्या करने की साजिश रची।

महिला कांस्टेबल श्रवणी वर्तमान में पिण्डवाड़ा थाने में और उसका भाई सुरेश विश्नोई रेवदर थाने में कार्यरत है। पुलिस जांच में यह भी सामने आया है कि वीडियो वायरल करने पर मृतक को सोशल मीडिया पर जान से मारने की धमकियां भी दी गई थी।

भजनलाल को रास्ते से हटाने के लिए एक साजिश रची गई। इस साजिश के तहत सुमन नाम से एक लडक़ी की फेक फेसबुक आईडी बनाई गई। इस आईडी से भजनलाल से चेटिंग की गई तथा उसे प्रेमजाल में फंसाया गया। भजनलाल उस समय पंजाब के भटिंडा में काम करता था।

साजिश के लिए तहत भजनलाल को मिलने के लिए भीनमाल बुलाया गया। वहीं दूसरी तरफ भजनलाल को मारने के लिए श्रवणी और उसके भाई सुरेश ने चुनाव ड्यूटी में गाड़ी लगाने के नाम पर करड़ा थाने के डीगांव निवासी अशोक कुमार से एक गाड़ी लाई गई।

पूरी घटना : देखें वीडियो

जब भजनलाल फेक फेसबुक आई वाली युवती से मिलने भीनमाल पहुंचा तो फेसबुक चैट के जरिये 19 अप्रेल की रात को जुंजाणी रोड पर मरूआ तारबंदी के समीप रुकने के लिए कहा गया।

उसके बाद अशोक बिश्नोई के वाहन से टक्कर मारकर उसकी हत्या कर दी गई। घटनास्थल के आस पास लगे सीसीटीवी फुटेज में इस गाड़ी को देखा गया है। इस मामले में अब तक वाहन मालिक अशोक विश्नोई और महिला कांस्टेबल श्रवणी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

लेकिन भजनलाल की मौत वाहन की टक्कर से हुई या किसी और तरीके से इसकी पुष्टि श्रवणी के भाई सुरेश कुमार के गिरफ्तारी के बाद हो पाएगी। इस मामले में मुख्य सरगना सुरेश कुमार की तलाश जारी है।