वीडियो में विरोध कर रहे लोगों को रतन देवासी ने बताया रानीवाड़ा विधायक का षड़यंत्र

राजस्थान भारती. रानीवाड़ा

विधानसभा चुनाव के अभी तक तारिख तय तो नहीं हुई है मगर टिकट को लेकर कांग्रेस दो गुटों बंटी नजर आ रही है। भीनमाल विधानसभा डॉ समरजीतसिंह का विरोध दिल्ली तक पहुंचा ही था कि दूसरे दिन एक वीडियो वायरल होता है जिसमें कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ता सचिन पायलट को रानीवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से रतन देवासी को टिकिट नहीं देने की मांग कर रहे है।

वीडियो में कार्यकर्ता आरोप लाग रहे है कि जो रतन देवासी को पैसे देता है उनको ब्लॉक अध्यक्ष बना देता है और जिसे चा​हे उसे बाहर कर देता है। हालांकि इस बारे मे जब रतन देवासी से पूछा गया तो उन्होंने साफ लफ्जों में इनकार करते हुए सारा का सारा बीजेपी का ड्रामा करार दे दिया। उन्होंने यहां तक कि कह दिया कि विरोध करने वाले सभी भाजपा के एजेंट है। जबकि वीडियो कार्यकर्ता कर रहे है कि 2003 के चुनावों में उन्होंने कंधे से कंधा मिलाकर कांग्रेस का प्रचार किया।

घर—घर ढाणी—ढाणी जाकर लोगों को कांग्रेस से जोड़ा था। लेकिन पूर्व विधायक देवासी इस बात से इनकार कर रहे हैं कि वे कांग्रेसी कार्यकर्ता नहीं है। वे सभी भाजपा के एजेंट बनकर काम कर रहे है। उन्होंने बताया कि रानीवाड़ा में भाजपा से विधायक नारायणसिंह देवल को आगामी चुनावों में हार का अंदाजा लग चुका है। इसलिए ये सारा का सारा कारनामा उनके इशारों पे करवाया जा रहा है।

यह है वीडियो जिसमें रतन देवासी का हो रहा है विरोध

रतन देवासी व समरजीत सिंह पर यह लगे आरोप

रानीवाड़ा से कांग्रेस कार्यकर्ता जोधपुर पहुंचकर सचिन पायलट व अशोक गहलोत से मुलाकात कर कहा कि रतन देवासी मनमानी करते है और पैसे देकर ब्लॉक अध्यक्ष बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि रतन देवासी को अगर पार्टी टिकट देती है तो पार्टी हारेगी ओर उसकी जिम्मेदारी पार्टी की होगी। इसी तरह भीनमाल से ऊमसिंह के गुट दिल्ली पहुच कर डॉ समरजित सिंह पर तानाशाही करने का आरोप लगाया। इसी तरह देखा जाए तो जिले में कांग्रेस जिले भर में दो गुटों बंटी नजर आ रही है।

यह लोग गए जोधपुर जिन्हें देवासी बता रहे है भाजपा के एजेंट

जिन्हें रतन देवासी भाजपा के एजेंट बता रहे है वह कांग्रेस के वरिष्ट कार्यकर्ताओं की श्रेणी में आते है। जिसमें भीखाराम सारण, रानीवाड़ा पूर्व सरपंच गोदाराम देवासी, जिला परिषद सदस्य भूपेंद्रसिंह देवड़ा, राधेश्याम चौधरी, नयाभाई पटेल, ओखाराम देवासी, हिराराम देवासी, कृष्ण देवासी, अखाराम चौधरी, मफाराम, नानजीराम सहित कई कांग्रेसी कार्यकर्ता जोधपुर जाकर रतन देवासी का विरोध करने में शामिल थे। जिन्हें रतन देवासी भाजपा के एजेेंट बता रहे है।